If there is any problem buying books on this site then you can write to us on info@goyalpublisher.com / Call us on +919650597000 / Whatsapp us on +919650597009.

Call  us: 9650597000, 9650597001, 23858362, 23850961, 41530272

आओ स्पेनिश सीखें (Spanish For Hindi Speakers)

Be the first to review this product

Availability: in stock
₨ 250.00
Discount:
ISBN
9789388141680
Author
Dr. Mayuresh Kumar
Binding
Paperback
Published
2019
Number of Pages
128
Publisher: Goyal Publishers
For Sale in the Indian Subcontinent only.
Description

भारत में देखा जाये तो अब कई ऐसे विश्वविद्यालय और संस्थान मिल जायेंगे जहाँ स्पेनिश पढ़ाई जाती है लेकिन कहीं पर भी हिंदी के माध्यम से इस भाषा को पढ़ाये जाने की शुरुआत नहीं हुई है। अगर ऐसा कहीं किया भी गया है तो हिन्दी भाषा में स्पेनिश व्याकरण की पुस्तक का अभाव जरूर देखा गया है। इस पुस्तक के माध्यम से आप स्पेनिश के मूलभूत स्तर की संरचना को समझेंगे और इसलिए यह अपने आप में एक अनूठा और पहला प्रयास है।

    आज भी हमारी आबादी का एक बड़ा हिस्सा बेरोजगारी और पिछड़ेपन से जूझ रहा है। ऐसा नहीं है कि यहाँ प्रतिभा की कमी है। इस देश की युवा पीढ़ी को बराबरी का अवसर प्राप्त नहीं हो पा रहा है। कई ऐसे युवक और युवतियां हैं जिन्हें अगर आगे आने का मौका मिले तो वे कड़ी प्रतिस्पर्धा दे सकते हैं। सभी लोगों का विश्वविद्यालयों तक पहुँचना संभव नहीं हो पाता। ऐसे में ये पुस्तक उनके बड़े काम आ सकती है। घर बैठे ही वो स्पेनिश सीख सकते हैं और अपने रोजगार के अवसर बढ़ा सकते हैं।
इस पुस्तक में इस बात का भी विशेष खयाल रखा गया है कि अंग्रेज़ी शब्दों के कठिन हिन्दी अनुवाद ना किए जाएँ। इससे उन पाठकों को आसानी होगी जो अंग्रेज़ी शब्दों के प्रचलित व्यवहार से परिचित हैं। इसी वजह से कई अंग्रेज़ी शब्दों को देवनागरी लिपि में जस का तस लिख दिया गया है।

इस किताब से पहले भी मेरी तीन और पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं जो कि इंटरनेट पर फ्लिपकार्ट और अमेज़न के जरिये उपलब्ध हैं। यह पुस्तक मेरी पीएचडी के शोध पर आधारित है जिसे मैंने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में प्रोफेसर राजीव सक्सेना की देख रेख में उनका शोधार्थी बनकर जमा किया और तदोपरांत अपनी डिग्री हासिल की। यह पुस्तक सिर्फ उन लोगों के लिए नहीं है जो कि हिन्दी के माध्यम से स्पेनिश सीखना चाह रहे हैं बल्कि उन लोगों के लिए भी है जो किसी और पुस्तक को पढ़ कर भी गुस्तार और सब्जंक्टिव जैसे जटिल अध्यायों को नहीं समझ पा रहे हैं।

    भले ही इस पुस्तक में आपने स्पेनिश सीखने के लिए हिंदी का सहारा लिया हो लेकिन इस बात का ख्याल रहे कि एक विदेशी भाषा को या किसी भी भाषा को सीखने के लिए किसी दूसरी भाषा का प्रयोग हमेशा उचित नहीं होता. इसीलिए बेहतर यही है कि प्रारंभिक चरण में ही आप हिंदी का सहारा लेकर सीधे स्पेनिश में ज्ञानार्जन शुरू कर दें. इस पुस्तक में हिंदी में स्पेनिश व्याकरण समझाने का सीधा उद्देश्य उन लोगों तक स्पेनिश को पहुँचाना था जिन तक शिक्षक नहीं पहुँच सकते.

आशा करता हूँ कि पाठक इस पुस्तक से लाभान्वित हो पाएंगे और इसमे गलती से अगर कुछ त्रुटियाँ रह गयी हों तो मुझे उनसे अवगत कराएंगे ताकि अगले संस्करणों में उनमे सुधार लाया जा सके।

NEWSLETTER

Sign Up for Our Newsletter